New E Santa Scheme 2021 – ई सांता योजना

Share on:

Last updated on June 25th, 2022 at 09:50 pm

ई सांता योजना : आज के इस लेख में हम आपको E Santa Scheme के बारे में जानकारी देने वाले है। सरकार ने मंगलवार को किसानों और निर्यातकों के बिचौलियों को खत्म करने के लिए ई-सांता नामक समुद्री उत्पादों के लिए एक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म लॉन्च (e-commerce platform) किया है।

इस प्लेटफार्म से किसानों को बेहतर कीमत मिल सकेगी और निर्यातक (exporters) सीधे किसानों (direct purchase from fishermans) से गुणवत्ता वाले उत्पाद खरीदेंगे, जो अंतर्राष्ट्रीय व्यापार (international trading) का प्रमुख कारक है।

ई-सांता योजना क्या है ? What is E Santa Scheme?

ई सांता का अर्थ इलेक्ट्रॉनिक सॉल्यूशन फॉर ऑग्मेंटिंग एनएसीएसए फार्मर्स ट्रेड इन एक्वाकल्चर होता है। और यह भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के तहत समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण की एक विस्तारित शाखा है. 

E Santa Scheme मछुआरों के जीवन स्तर को बदल देगा, उनके जीवन में उल्लेखनीय सुधार लाएगा और वैश्विक व्यापार में भारत की प्रतिष्ठा भी बढ़ाएगा।

E Santa Scheme

यह प्लेटफार्म अधिक औपचारिक और कानूनी रूप से बाध्यकारी बन जाएगा। साथ ही यह मछुआरों के लिए आय, जीवनशैली, आत्मनिर्भरता, गुणवत्ता स्तर,पता लगाने की क्षमता और नए विकल्प प्रदान करेगा.

ई सांता किसानो के आय को कैसे बढ़ाएगा ? 

ई सांता पोर्टल कई तरीकों से किसानों की मदद करेगा। और उनमें से कुछ तरीके हम आपको नीचे बता रहे है। 

  1. यह किसानों की जोखिम कम करके उनकी मदद करेगा।
  1. यह किसानों में उत्पादों और बाजारों के बारे में जागरूकता जागरूक करेगा।
  1. यह किसानों के आय में बढ़ोतरी करेगा।
  1. इसकी खास बात यह है कि यह गलत कामों के खिलाफ रोक लगाएगा।
  1. इससे सभी प्रक्रियाओं में आसानी होगी।

ई सांता स्कीम के फायदे क्या है ? Benefits of E Santa Scheme

हमने आपको E Santa Scheme क्या है यह तो बता दिया है तो चलिए अब हम आपको नीचे ई सांता स्कीम के फायदे बताते है। 

  1. यह स्कीम बिचौलियों को खत्म करेगी

ई सांता यह स्कीम बिचौलियों को खत्म करने के लिए एक बेहतरीन डिजिटल प्लेटफार्म है और यह बिचौलियों को खत्म करके किसानों एवं खरीदारों के बीच एक आधुनिक उपकरण के रूप में काम करेगा।

इसकी खास बात यह है कि यह किसानों और निर्यातकों के बीच नकदी रहित, संपर्क सहित और पेपरलेस इलेक्ट्रॉनिक ट्रेड प्लेटफॉर्म प्रदान करके पारंपरिक जलीय कृषि में क्रांति लाएगा।

E Santa Scheme सामूहिक रूप से उत्पादों को खरीदने वाले, मछुआरों एवं मत्स्य उत्पादक संगठनों को एक साथ लाने का एक माध्यम बन सकता है और इससे भारत एवं विश्व के लोग ये जान सकते हैं कि क्या उपलब्ध है और क्या उपलब्ध नही है।

यह भविष्य में एक नीलामी प्लेटफार्म भी बन सकता है। सिर्फ इतना ही नही बल्कि यह प्लेटफार्म कई भाषाओं में उपलब्ध है, जो स्थानीय लोगो की मदद करेगा।

  1. इंडिया और बाहर के देशों के मछुआरों के बीच सेतु का काम करेगा

जैसा कि हम सभी लोग जानते है कि हमारे देश के किसानों को एकाधिकार एवं शोषण का सामना करना पड़ रहा है. वहीं निर्यातकों को खरीदे गए उत्पादों में गुणवत्ता की कमी का सामना करना पड़ रहा है।

इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय व्यापार में कीमत का पता लगाने की क्षमता एक बड़ा मुद्दा है. 

https://esanta.gov.in यह E Santa Scheme की official वेबसाइट है। यह वेबसाइट हमारे मछुआरों के जीवन स्तर में बदलाव लाएगी, उनके जीवन में व्यापक सुधार लाएगी और इसके साथ-साथ वैश्विक व्यापार में भारत की प्रतिष्ठा भी बढ़ाएगी।

यह पोर्टल देश और विदेश में मछुआरों और खरीददारों के बीच एक सेतु के रूप में काम करेगा और यह प्लेटफार्म आत्मनिर्भर भारत के रूप काम करेगा और भारत को आत्मनिर्भर बनाने में भी मदद करेगा। सरकार ने यह योजना किसानों के फायदे के लिए बनाई है।

ई-सांता योजना (E Santa Scheme) से कौनसी सुविधाएं मिलेंगी ?

ई सांता योजना (E Santa Scheme) किसानों और निर्यातकों के बीच पूरी तरह से एक पेपरलेस और इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफार्म के रूप में कार्य करता है. इस पर किसानों को अपनी उपज को सूचीबद्ध करने और उनकी कीमत को तय करने की आजादी मिलेगी।

वहीं निर्यातकों को अपनी आवश्यकताओं को सूचीबद्ध करने और अपनी आवश्यकताओं जैसे, स्थान और फसल कटाई की तारीख आदि के आधार पर उत्पादों को चुनने की स्वतंत्रता है।

यह किसानों और खरीदारों को व्यापार पर अधिक नियंत्रण रखने एवं सूचनाओं पर आधारित निर्णय लेने में सक्षम बनाता है।

यह प्लेटफार्म प्रत्येक उत्पाद सूची की विस्तृत जानकारी प्रदान करता है। वहीं जब फसल की कटाई पूरी हो जाती है तो अंतिम गणना, सामग्री की मात्रा, अंतिम रकम तय की जाती है और वितरण चालान जारी किया जाता है।

इसके बाद जब एक बार सामग्री पहुंच जाती है तो अंतिम चालान बनता है और निर्यातक शेष रकम का भुगतान करता है। यह भुगतान एस्क्रौ अकाउंट में दिखाई देता है। एनएसीएसए इसे वेरिफाइड करता है और इसके अनुसार किसानों को भुगतान जारी करता है।

Conclusion

इस लेख में हमने आपको (E Santa Scheme) ई सांता योजना क्या है और यह किसानो के आय को कैसे बढाती है और उन्हें क्या सुविधाएं प्रदान करती है इसके बारे में पूरी जानकारी दी है।

हम आशा करते है कि आज का यह लेख आपको पसंद आया होगा और इसी तरह सरकारी योजना से जुडी जानकारी यहां से प्राप्त करें। यदि आपको आज का यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तो के साथ और सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे।

FAQ :-

इ सांता योजना कब और किसके द्वारा लांच की गयी ?

13 अप्रैल 2021 को भारत की भारतीय जनता पार्टी के मंत्री पियूष जी गोयल द्वारा।

What is E-Santa Full Form OR Meaning ?

Electronic Solution for Augmenting NaCSA Farmers Trade in Aguaculture.

What is NaCSA & MPEDA ?

NaCSA : National Centre for Sustainable Aquaculture
MPEDA : Marine Products Export Development Authority

ई-सांता योजना से पैसा किस माध्यम से आएगा ?

इस योजना के लाभार्थियों को पैसा इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भुगतान किया जायेगा।

कितने दिनों में ई सांता का पैसा खाते में आ जायेगा ?

आर्डर कन्फर्म होने पर 25 प्रतिशत पैसा एडवांस मिलेगा और बाकी पैसा माल उठाने के 2 दिन के अंदर।

e-Santa पोर्टल के लाभ ?

1. उत्पाद की जानकारी को लेकर जागरूकता बढ़ेगी।
2. इस से जुड़े किसानों (Aqua farmers) की आय में वृद्धि होगी।
3. खरीददार और बिकवाल के बिच के जोखिम को काम करना।
4. बिचौलियों की भूमिका को ख़त्म करना।
Share on:

Author : Pankaj Sihag

मैं इस खेती-किसान ब्लॉग का संस्थापक पंकज सिहाग हनुमानगढ़ जिले के एक छोटे से गाँव के किसान का बेटा हूँ। यहाँ पर किसानों की सहायता हेतु फसलों के मंडी भाव दिए जाते हैं।

An online web portal where articles on government schemes, farming & agriculture are published in hindi.

Note : It is not affiliated to government.

CONTACT US

Mail To : contact@khetikisaan.com

PH : +91-8742853342

1509 धान का ताज़ा भाव 26 सितंबर 2022 Weather Update : आज बारिश होने की प्रबल संभावना Today Mandi Bhav 24th Aug 2022 Dhaan Rate Mandi Bhav : ग्वार एवं गम के हाज़िर और वायदा बाजार की रिपोर्ट